'फाइट ऑफ द सेंचुरी' का मुकाबला धोखा बताकर पैसे वापस करने की मांग
America , America ,  United States , North America   | अपडेटेड: Tuesday, May 19, 2015 at 12:04 pm EST

पैक्वे पर आरोप लगा है कि उन्होंने मैच से पहले अपने कंधे की चोट का खुलासा नहीं किया था। बॉक्सिंग प्रेमियों का मानना है कि इस वजह से मुकाबले में मेवेदर ने एकतरफा जीत हासिल कर ली थी। बॉक्किंग प्रेमी अब खुद को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। पैक्वे के खिलाफ मुकदमें में इसे सदी का मुकाबला के बजाय सदी का 'सबसे बड़ा छल' बताया गया है।
टेक्सस में दायर किए गए एक मुकदमे में यह कहा गया है, 'यह मुकाबला बहुत अच्छा नहीं था। यह न ही मनोरंजक था और न ही दर्शकों में उत्साह बढ़ाने वाला। सच तो यह है कि यह एक बहुत ही धीमा और उबाऊ मुकाबला था।' यह फाइट अमेरिका के लास वेगस में हुई थी। इस मुकाबले को जीतने वाले फ्लॉयद मेदेवर अमेरिकी हैं जबकि मैनी पैक्वे फिलीपींस के हैं। इस मुकाबले को 118-110, 116-112 और 116-112 से जीतकर फ्लॉयड मेवेदर एक तरह से सदी के सबसे बड़े खिलाड़ी बन गए थे। इससे पहले भी अमेरिका के अरबपति बॉक्सर फ्लॉयड पिछले 47 मैचों से लगातार जीत रहे थे।
मैच में हार-जीत का असर उन लोगों को पड़ा, जिन्होंने मैच पर सट्टा लगाया था। करीब 20 हजार करोड़ रुपये का सट्टा इस मैच पर लगा हुआ था। अमेरिका के लास वेगस शहर के MGM ग्रैंड अरीना में हुई इस फाइट को 16 हजार से ज्यादा लोगों ने देखा, जिसमें कई सिलेब्रिटीज़ भी शामिल थीं।
मुकाबले को लेकर फैंस में इतना उत्साह था कि मैच के 500 टिकट जो आम पब्लिक के लिए रखे गए थे, वे महज 60 सेकंड्स में बिक गए थे। बाद में लोगों को जब पता चला कि पैक्वे ने कंधे के चोट की बात छिपाई तो उन्होंने खुद को ठगा महसूस किया और अब वे अपने पैसे वापस मांग रहे हैं।



यह खबर आपको कैसी लगी ?  0

आपकी राय


Name Email
Please enter verification code