सेरेना विलियम्स ने फाइनल मुकाबले में स्पेन की कार्ला सुआरेज नवारो को 6-2, 6-0 से हराया
Canberra , Capital Region ,  Australia , Oceania   | अपडेटेड: Sunday, Apr 5, 2015 at 07:48 am EST

इसी वर्ष ऑस्ट्रेलिया में अपने करियर का 19वां ग्रैंडस्लैम जीतने वाली 33 वर्षीय अमेरिका की टॉप सीड सेरेना लगभग एकतरफा रहे फाइनल मुकाबले में पूरी तरह से छाई रहीं और केवल 56 मिनट में ही नवारो को हराते हुए लगातार 3री और कुल 8वीं बार मियामी ओपन अपने नाम कर लिया।
इसके साथ ही वह इस टूर्नामेंट को कम से कम 8 बार जीतने वाली स्टेफी ग्राफ, मार्टिना नवरातिलोवा और क्रिस एवर्ट जैसे खिलाड़ियों की फेहरिस्त में शामिल हो गईं।
चैंपियन बनने के बाद सेरेना ने कहा कि यह मेरा 8वां मियामी खिताब है और मैं बहुत अच्छा महसूस कर रही हूं। मैं चोट से जूझ रही थी और इस हफ्ते की शुरुआत में यह नहीं लग रहा था कि मैं यह कारनामा कर पाऊंगी। कुछ मैचों में मैंने बहुत गलतियां की लेकिन मैंने खुद से ही स्वाभाविक खेल का प्रदर्शन करने का फैसला किया और आखिरकार खिताब बचाने में कामयाब रही।
सेरेना और विश्व की 12वें नंबर की खिलाड़ी नोवारो के बीच यह 5वीं भिड़ंत थी जिसमें से सभी मुकाबले सेरेना ने ही जीते हैं।
नवारो ने पहले सेट के 5 गेम्स तक अच्छा प्रदर्शन किया लेकिन 6ठे गेम में सेरेना ने सर्विस तोड़ते हुए 4-2 की लीड बना ली और मैच पर अपनी पकड़ भी मजबूत कर ली। नवारो के पास दूसरे सेट के पहले गेम में वापसी का शानदार मौका था लेकिन उन्होंने कुछ गलतियां कर दीं।
इसके बाद सेरेना ने कोर्ट पर गजब की फूर्ती दिखाते हुए इसका भरपूर फायदा उठाया और सेट के साथ ही मुकाबला अपने नाम करने में कोई भी गलती नहीं की। उन्होंने 6-2, 6-0 से मुकाबला अपने नाम कर लिया।।
अपने करियर के सबसे बड़े फाइनल मुकाबले में खेल रहीं नोवारो ने कहा कि जब भी मैं सेरेना के खिलाफ कोर्ट पर उतरती हूं तो मुझे पता होता है कि वह सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी हैं। उनके खेल में शानदार की कलात्मकता है और वह सामने वाले खिलाड़ी को गलतियां करने पर बाध्य कर सकती हैं, लेकिन इस बार मैं बाकी के मैचों की ही तरह पूरे आत्मविश्वास के साथ खेलने उतरी थी। मैं आखिरी समय तक संघर्ष करती रही लेकिन यह मेरे लिए बहुत मुश्किल साबित हुआ और उपविजेता की ट्रॉफी से ही संतोष करना पड़ा।



यह खबर आपको कैसी लगी ?  0

आपकी राय


Name Email
Please enter verification code