कैनेडियन डाइरेक्टर ने कांस में जूरी पुरुस्कार जीता
Ottawa , Ontario ,  Canada , North America   | अपडेटेड: Monday, May 26, 2014 at 06:02 am EST

जया सजल - कांस, फ्रांस – कैनेडियन डाइरेक्टर ज़ेवियर डोलन ने शनिवार को कांस फिल्म फेस्टिवल में उनकी फिल्म 'मॉमी' के लिए जूरी प्राइज़ हासिल किया। इस सम्मान में फ्रेंच फिल्म-निर्माता जीन-लुक गोडार्ड उनके सहभागी रहे। डोलन ८३ वर्षीय फिल्म आइकॉन, गोडार्ड के साथ इस सम्मान की साझेदारी को लेकर बेहद अभिभूत दिखाई दिए।
यह एक तरह का 'को-इन्सिडेंस' ही था कि २५ वर्षीय, डोलन इस फेस्टिवल के सबसे युवा निर्देशक हैं जबकि गोडार्ड, जिन्हें उनकी फिल्म 'गुडबाय टू लैंग्वेज' के लिए यह सम्मान मिला है, सबसे बुजुर्ग निर्देशक हैं।
इसके पहले इस बात की उम्मीद जताई जा रही थी कि डोलन को फेस्टिवल का सर्वोच्च अवार्ड 'पाल्मे डी’ओर' मिल सकता है लेकिन यह अवार्ड तुर्की की फिल्म 'विंटर स्लीप' के खाते में आया।
इस सम्मान को लेने के लिए स्टेज पर जाते वक़्त डोलन बेहद भावुक दिखाई पड़े और अपनी बात रखते वक़्त अपना संयम बरकरार रखने के लिए उन्हें कई बार ‘रुकना’ पड़ा। अपनी बात रखते हुए डोलन ने कहा, “मैं जूरी द्वारा मिले सम्मान, और पिछले हफ़्ते भर मिले प्यार के लिए बहुत कृतज्ञ महसूस कर रहा हूँ। इसकी वजह से मुझे एहसास हुआ है कि हम के काम प्यार करने और बदले में प्यार पाने के लिए करते हैं। "
डोलन ने जूरी सदस्य जेन कैम्पियन को बताया कि उनकी फिल्मों से उन्हें (डोलन को) सशक्त महिला किरदारों की रचना करने की प्रेरणा मिलती है।
कांस डोलन के लिए अजनबी नहीं है। २००९ में उन्होंने अपनी पहली निर्देशित फिल्म 'आई किल्ड माई मदर' के साथ कांस में कदम रखा था। इस फिल्म की कहानी उन्होंने मात्र १७ साल की उम्र में लिख डाली थी। उस वक़्त इस फिल्म को डाइरेक्टर्स फोर्टनाइट प्रोग्राम में तीन अवार्ड मिले थे। डोलन कि अन्य फ़िल्में हैं: 'हार्टबीट्स' (२०१०); 'लॉरेंस एनीवेज़' (२०१२) तथा 'टॉम ऐट द फ़ार्म'।



यह खबर आपको कैसी लगी ?  0

आपकी राय


Name Email
Please enter verification code