कहीं आपके बच्चे भी तो नहीं हो रहे डिप्रेशन के शिकार, रखिये नज़र!
Ottawa , Ontario ,  Canada , North America   | अपडेटेड: Saturday, Mar 15, 2014 at 03:59 pm EST

कैनेडा, 15 मार्च : कैनेडा में लगातार मानसिक स्वास्थ्य सेवाओं को फैलाया जा रहा है, क्योंकि पिछले एक साल में लगातार युवाओं को मानसिक बीमारी के चलते युवाओं के अस्पताल में भर्ती होने की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। इन युवाओं में से अधिकर खुद को बुरी तरह से घायल कर लेते हैं और बहुत ही गंभीर अवस्था में अस्पताल में भर्ती किये जाते हैं।
ओटवा स्थित बच्चों के अस्पताल के मानसिकि चिकित्सा डिवीजन के चीफ डॉक्टर हैजेन गैंडी का कहना है कि " हमने पिछले 10 सालों में मानसिक बीमारी से ग्रस्त बच्चों की संख्या में लगभग दुगनी वृद्धि होती देखी है। आमतौर पर बच्चे खुद पर वार करके खुद के ही शरीर पर घाव कर लेते हैं। 12 से लेकर 17 साल के बच्चे अपने हाथों, पैरों और पेट पर रेजर ब्लेड या किसी धारदार चीज से वार करके खुद को जख्मी कर लेते हैं। "
ये मानसिक बीमार बच्चे खुद के साथ कुछ भी कर सकते हैं, खुद को जला सकते हैं, खुद पर वार कर सकते हैं जैसे कि मुट्ठी से बार बार दीवार पर मारकर चोट पहुंचा सकते हैं। इससे वो खुद के शरीर को इतना दर्द देते हैं कि वो अपने अंदर के बुरे एहसासों और टूटी उम्मीदों के दर्द को ना महसूस कर सकें।
खुद को चोट पहुंचाने के पीछे बहुत सारी वजहें हो सकती हैं। जैसे कि बच्चे किसी डिप्रेशन के शिकार हों, या फिर अपने अंदर किसी कॉम्पलेक्स को महसूस कर रहे हों, खुद पर से यकीन खो बैठे हों, अकेला महसूस कर रहे हों।
हमारी सबसे बड़ी चिंता की वजह ये है कि ये सुविधाएं तो बढ़ाई जा रही हैं, लेकिन लोगों को मानसिकत चिकित्सा देने वाले खुद ही कई बार रोते हुए और टूटते हुए पाए जाते हैं। जो कि बहुत ही गलत है। डॉक्टर गैंडी पिछले 20 सालों से ओटवा में प्रेक्टिस कर रहे हैं। उनका कहना है कि ये समस्या पूरे कैनेडा में फैली हुई है और लगातार बढ़ रही है।
तो अगर आप भी अगली बार अपने बच्चे को चुप चाप अकेला बैठे देखें। खेलकूद में, पढ़ाई में उसकी रुचि कम होते देखें तो जरा उसका ख्याल रखें और उसे डिप्रेशन में जाने से रोकें।



यह खबर आपको कैसी लगी ?  0

आपकी राय


Name Email
Please enter verification code