सोची ओलंपिक : भारत का सम्मान लौटा, सोची में लहराया तिरंगा
SotÅ¡i , Krasnodar ,  Russian Federation , Europe   | अपडेटेड: Monday, Feb 17, 2014 at 02:22 pm EST

मुकेश तिवारी - आखिरकार तमाम अपमानों के बाद सोची ओलंपिक में भारतीय ध्वज शान से लहराया और भारतीय खिलाडियों ने गर्व के कुछ क्षण महसूस किये।
भारतीय ध्वज विशेष समारोह में शीतकालीन ओलंपिक खेलों में फहराया गया राष्ट्रगान भी गूंजा। भारतीय ओलंपिक संघ पर लगे 14 महीने के निलंबन को हटाये जाने के पांच दिन बाद ध्वजारोहण समारोह का आयोजन किया गया।
यह समारोह 45 मिनट तक चला और इसे माउनटेन विलेज के इंटरनेशनल प्लाजा में आयोजित किया गया। अब समापन समारोह में भारतीय एथलीट तिरंगे तले मार्चपास्ट कर सकेंगे। ओपनिंग सेरेमनी में भारतीय एथलीट्स को तिरंगे के बजाय आईओसी का ध्वज लेकर चलना पड़ा था।
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, ध्वजारोहण समारोह में भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) के नवनियुक्त अध्यक्ष एन. रामचंद्रन और एथलीट लुगर शिवा केशवन सहित भारतीय खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया।
उल्लेखनीय है कि आईओसी ने 2012 में उस समय आईओए पर प्रतिबंध लगा दिया था, जब भ्रष्टाचार के आरोप में घिरे एक राजनेता को चुनावों के माध्यम से इसका महासचिव चुना गया था। आईओसी ने ताजा चुनावों के बाद 11 फरवरी, 2014 को प्रतिबंध समाप्त किया।
भारत के ओलंपिक बिरादरी में लौटने के साथ सोची में हिस्सा लेने वाले देशों की संख्या 88 हो गई। आईओए के नवनियुक्त प्रमुख एन रामचंद्रन ने इसे एक भावनात्मक पल बताया। चेन्नई के उद्योगपति और विश्व स्क्वॉश महासंघ के प्रमुख रामचंद्रन सोची में मौजूद हैं और वह उस कार्यक्रम में शरीक हुए, जिसमें भारतीय खिलाड़ियों की मौजूदगी में तिरंगे को मुख्य आयोजन स्थल पर लहराया गया।



यह खबर आपको कैसी लगी ?  0

आपकी राय


Name Email
Please enter verification code