फिल्म इंडस्ट्री करण जौहर के पापा का दिया हुआ स्टूडियो नहीं है : कंगना रनौत
Mumbai (Bombay) , Maharashtra ,  India , Asia   | अपडेटेड: Thursday, Mar 9, 2017 at 02:07 pm EST

अभिनेत्री कंगना रनौत बॉलीवुड की ‘क्वीन’ तो हैं ही साथ ही वो अपनी बेबाक राय रखने के  लिए जानी जाती हैं. पिछले दिनों ‘कॉफी विद करन’ में जब कंगना पहुंची थीं तो उन्होंने बहुत ही बेबाकी से कई मुद्दों पर अपनी राय व्यक्त की थी. उस दौरान कंगना ने कहा था कि करन जौहर बॉलीवुड में नेपोटिज़्म’ (भाई-भतीजावाद) को बढा़वा देते हैं और वो ‘मूवी माफिया’ हैं. शो के दौरान तो करन कुछ नहीं बोल पाए  लेकिन बाद में करन ने कहा कि कंगना ‘विक्टिम कार्ड’ खेल रही हैं और उन्हें बॉलीवुड इंडस्ट्री इतनी बुरी लगती है तो उन्हें इसे छोड़ देना चाहिए. अब फिर कंगना ने करन को ‘महिला कार्ड’ और ‘विक्टिम कार्ड’ पर पलटवार किया है.
‘करन जौहर एक महिला को उसके महिला होने पर शर्मिंदा क्यों करना चाह रहे हैं? ‘वुमेन कार्ड’ और ‘विक्टिम कार्ड’ का मतलब क्या है? ऐसा कहकर करन जौहर उन महिलाओं का अपमान कर रहे हैं जो वाकई ऐसे ‘कार्ड्स’ का इस्तेमाल कर रही हैं. ये ‘वुमेन कार्ड’ शायद आपके लिए या फिर किसी ओलंपिक विजेता, किसी राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता के काम भले ही न आए, लेकिन यह एक प्रेग्नेंट महिला को भीड़ भरी बस में ‘महिला’ सीट दिलाने के काम आता है. एक महिला को जब खतरा महसूस होता है तो रोने के तौर पर वो इसका इस्तेमाल कर सकती है. ये ‘विक्टिम कार्ड’ मेरी बहन रंगोली जैसी ऐसिड अटैक विक्टिम के काम आता है जो न्याय पाने के लिए इसका इस्तेमाल करती हैं.’



यह खबर आपको कैसी लगी ?  0

आपकी राय


Name Email
Please enter verification code