सर्ज प्राइसिंगः रेलवे को होगी 500 करोड़ की कमाई
New Delhi , Delhi ,  India , Asia   | अपडेटेड: Friday, Sep 9, 2016 at 10:02 am EST

शताब्दी, राजधानी और दूरंतो एक्सप्रेस ट्रेन में शुरू की टिकटों की सर्ज प्राइसिंग से रेलवे को 500 करोड़ रुपये की कमाई होने की उम्मीद है. इन ट्रेनों में सर्ज प्राइसिंग शुक्रवार से शुरू हो गई है. भाजपा ने सर्ज प्राइसिंग को लेकर के रेल मंत्रालय से अपना विरोध दर्ज कराया है. हालांकि रेलवे ने यह भी साफ किया कि इस योजना को केवल ट्रायल मोड पर चलाया जा रहा है. यात्रियों का रिस्पांस देखने के बाद इस योजना को आगे जारी रखने या बंद करने का फैसला किया जाएगा।
रेलवे बोर्ड के मेंबर ट्रैफिक मोहम्मद जमशेद ने कहा कि इससे रेलवे को 500 करोड़ रुपये की कमाई होने की उम्मीद है. जमशेद के अनुसार यह बढ़ोतरी मामूली है और रेलवे इससे होने वाली कमाई को यात्री सुविधाओं को बढ़ाने में मदद मिलेगी. रेलवे इसके अलावा नॉन पैसेंजर फेयर रेवन्यु को भी बढ़ाने पर विचार कर रहा है।
जमशेद ने कहा कि रेलवे यात्री की एक किलोमीटर की यात्रा पर 73 पैसे खर्च करता है जबकि उसके हिस्से में केवल 34 पैसे आते हैं. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन एके चावला ने कहा कि यह स्कीम केवल ट्रायल पर शुरू की गई है. रेलवे मंत्रालय ने ट्वीट कर बताया कि फिलहाल रेलवे फ्लेक्सी फेयर सिस्टम सिर्फ 152 ट्रेनों में लागू कर रही है। अभी रेलवे 12,000 यात्री ट्रेनें चलाती है.
माना जा रहा है कि रेलवे की गिरती आय को बढ़ाने के लिए रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने इस व्यवस्था को हरी झंडी दिखाई है. ये प्रीमियम ट्रेनें ट्रेनें देश के प्रमुख शहरों से होकर चलती हैं। इनमें कंफर्म टिकट पाने के लिए मारामारी मची रहती है. ऐसे में रेलवे को इससे अच्छी-खासी आमदनी होने की उम्मीद है.



यह खबर आपको कैसी लगी ?  0

आपकी राय


Name Email
Please enter verification code
  
अन्य समाचार