संपादकनामा
 
मीना चोपड़ा | Last Updated: 1/9/2014 5:19:36 PM EST
More From मीना चोपड़ा

"किसी भी भाषा की अंतरआत्मा की पहचान उसकी साहित्यिक क्षमताओं से होती है। सोचना यह है कि यह साहित्यिक क्षमताएं क्या हैं? ये कहाँ से उभरती हैं? कोई भी गद्य एवं पद्य की रचना जिसमें उच्च श्रेणी की कलात्मक योग्यता का आभास या प्रदर्शन हो वही उस भ... >>